Sukanya samridhi yojna kya hai | सुकन्या समृद्धि योजना क्या है | What is sukanya samridhi yojna

भारत में बढ़ता लिंगानुपात और महिलाओं की असामान्य स्थिति हर वर्ग के लिए चिंता का विषय है. भारत सरकार के द्वारा महिलाओं के लिए शिक्षा स्वास्थ्य और अन्य जरूरतों के लिए समय-समय पर कई तरह की योजनाएं चलाई जाती है. इन्हीं योजनाओं में से एक सुकन्या समृद्धि योजना है. यह योजना भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में केंद्र सरकार ने 22 जनवरी 2015 को शुरू की है. यह छोटी सी बचत योजना बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान का हिस्सा है. इस योजना का मुख्य उद्देश्य बेटी के भविष्य के लिए माता-पिता द्वारा की गई निवेश पूंजी है. जो उनकी लाडली बिटिया को उज्जवल भविष्य, अच्छी शिक्षा और उनके सपनों को पूरा करेगा. सुकन्या समृद्धि योजना का खाता किसी भी प्राधिकृत बैंक या डाक विभाग के किसी भी पोस्ट ऑफिस में जाकर खोल सकते हैं.

इसे भी पढ़ें: आयुष्मान भारत योजना 2018

सुकन्या समृद्धि योजना क्या है
सुकन्या समृद्धि योजना क्या है

इसे भी पढ़ें: जीएसटी रिटर्न और जीएसटी रिटर्न फॉर्म

सुकन्या समृद्धि योजना का खाता खुलवाने के लिए आवश्यक दस्तावेज:

  • सुकन्या समृद्धि खाता खोलने का फॉर्म. यह फॉर्म किसी भी बैंक या पोस्ट ऑफिस से मिल जाएगा.
  • जिसका खाता खोलना है उसका जन्म प्रमाण पत्र (Birth certificate).
  • माता - पिता का पहचान पत्र जैसे - पैन कार्ड, पासपोर्ट, वोटर ID कार्ड या आधार कार्ड.
  • माता - पिता का आवासीय प्रमाण पत्र.
  • माता - पिता के साथ बच्ची का फोटो.

  • सुकन्या समृद्धि खाता कैसे खोलें:


    सुकन्या समृद्धि योजना के तहत माता - पिता अधिकतम दो लड़कियों के लिए खाता खोल सकते हैं. दो से अधिक लड़की का खाता नहीं खोला जा सकता है. अगर किसी माता-पिता को एक लड़की हो और दूसरी बार जुड़वा लड़की हो तो केवल इसी स्थिति में तीन लड़कियों का एक ही माता - पिता के द्वारा खाता खुल सकता है. इसके लिए उन्हें चिकित्सक (Doctor) से इसका प्रमाण पत्र लेकर जमा करना होगा, तभी इस योजना का लाभ मिलेगा.

    इसे भी पढ़ें: जीएसटी पंजीकरण कैसे करें

    इस योजना के अनुसार जिस लड़की का खाता खोला जाएगा वह भारत का निवासी होना चाहिए. सुकन्या समृद्धि खाता बच्ची के जन्म लेने से लेकर उसके 10 साल के होने तक खोल सकते हैं. अगर किसी बच्ची का उम्र 10 साल से ज्यादा है तो वह इस योजना का लाभ नहीं ले सकती. सुकन्या समृद्धि खाता लड़की के नाम पर ही खोला जाता है. सिर्फ माता - पिता या कोई एक जमाकर्ता उसके खाते में उस लड़की की तरफ से पैसा जमा करता है. इस योजना के तहत एक लड़की के नाम पर एक ही खाता खोला जाएगा. अगर कभी लड़की के माता - पिता को एक शहर से दूसरे शहर या भारत में किसी दूसरे जगह जाना पड़ा तो अभिभावक उस खाते को स्थानांतरित (Transfer) करवा सकते हैं.

    सुकन्या समृद्धि खाते में साल में कम से कम ₹1000 और ज्यादा से ज्यादा डेढ़ लाख रुपए जमा कर सकते हैं. यह जमाकर्ता के ऊपर निर्भर है कि वह मासिक जमा करें या वित्तीय वर्ष एक ही बार जमा करें. यदि किसी कारणवश किसी खाते में 1 साल की न्यूनतम राशि जमा नहीं हो पाई तो ₹50 का penalty लगता है. सुकन्या समृद्धि योजना में अभिभावक को 14 साल पूरे होने तक पैसे जमा करना है. जब लड़की की उम्र 18 वर्ष हो गई है और शिक्षा के लिए किसी अच्छे संस्थान में जाना चाहती है तो जमा की हुई राशि का आधा पैसा निकाल सकते है. जब लड़की की उम्र 21 साल हो जाएगी तो जितनी भी राशि उसके खाते में होगी वह एक आवेदन देकर निकाल सकते हैं. पैसा निकलने के बाद उस लड़की की सुकन्या समृद्धि खाता बंद हो जायेगा. यह राशि आयकर से पूरी तहत कर मुक्त होती है.

    इसे भी पढ़ें: जीएसटी क्या है और इसके क्या फायदे हैं

    सुकन्या समृद्धि योजना के मुख्य बिंदु:


  • सुकन्या समृद्धि योजना के तहत खाता खोलने के लिए जमाकर्ता को कम से कम ₹1000 की राशि जमा करना अनिवार्य है. यह जमा राशि आप किसी भी तरीके से जमा कर सकते हैं.
  • सुकन्या समृद्धि योजना का सबसे बड़ा लाभ यह है कि इस की ब्याज दर अन्य खाता से ज्यादा है. तो निश्चित रूप से हम कह सकते हैं कि अगर इसमें पैसे जमा किया जाए तो अधिक फायदा होगा.
  • सुकन्या समृद्धि योजना की ब्याज दर अन्य किसी भी निवेश योजना की दर से ज्यादा है. परंतु, एक बात यह भी है कि इस की ब्याज दर बाजार पर निर्भर होती है. बाजार कि दर जैसी होती है इसकी ब्याज दर में कमी या बढ़ोतरी होती रहती है.
  • सुकन्या समृद्धि योजना के तहत खोला खाता स्थानांतरित हो सकता है. यानी कि अगर आपने जिस शहर में खाता खोला है उसे छोड़कर भारत के किसी दूसरे जगह जाना चाहते हैं तो आप अपने खाते को स्थानांतरित करा सकते हैं.
  • इस खाते में 14 साल पूरे होने तक ही पैसा जमा करना होता है. जब लड़की 18 साल की हो जाएगी तब जमा राशि में से आधा पैसा निकाल सकते हैं. जब लड़की की आयु 21 वर्ष की हो जाएगी तो खाता बंद हो जायेगा.
  • अभी हाल ही में सरकार ने इस योजना में परिवर्तन का नियम लागू कर दिया है. अगर आपने किसी लड़की को गोद लिया है तो भी आप उस लड़की का सुकन्या समृद्धि खाता खोल सकते हैं.
  • अगर आपने सुकन्या समृद्धि योजना का खाता डाकघर में खोला है तो आप उसे जरूरत के अनुसार किसी बैंक में स्थानांतरित कर सकते हैं. बस इसके लिए आपको डाकघर में एक फॉर्म भरना होगा जिसमें सुकन्या समृद्धि खाते का विवरण और जिस बैंक में उसे स्थानांतरण करना चाहते हैं उसका विवरण भरना होगा.
  • सुकन्या समृद्धि योजना के खाते में पैसे जमा करने से PF से भी ज्यादा ब्याज मिलता है और इसकी मैच्योरिटी होने पर मिलने वाली रकम भी टैक्स फ्री होता है.
  • सुकन्या समृद्धि योजना के लिए अधिकृत बैंकों के नाम:


    सुकन्या समृद्धि योजना का खाता डाकघर में भी खोल सकते हैं. भारतीय रिजर्व बैंक के कुछ अधिकृत बैंकों की भी एक सूची है जो इस योजना के तहत खाता खोलता है:

  • स्टेट बैंक ऑफ इंडिया 
  • विजया बैंक
  • यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया 
  • यूनियन बैंक ऑफ इंडिया 
  • बैंक ऑफ इंडिया 
  • यूको बैंक 
  • सिंडिकेट बैंक 
  • पंजाब नेशनल बैंक 
  • पंजाब और सिंध बैंक 
  • ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स 
  • इंडियन ओवरसीज बैंक
  • IDBI बैंक
  • ICICI बैंक
  • देना बैंक
  • केनरा बैंक 
  • सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया 
  • Axis बैंक
  • Allahabad बैंक
  • आंध्र बैंक 
  • Bank of Baroda
  • HDFC बैंक
  • बैंक ऑफ महाराष्ट्र
  • इन में से किसी भी बैंक में आप अपनी बिटिया के नाम से सुकन्या समृद्धि योजना के तहत खाता खोल सकते हैं. आप चाहे तो बैंक में जाकर वहां फॉर्म भरकर सभी दस्तावेज जमा करके खाता खोल सकते हैं या इंटरनेट से फॉर्म डाउनलोड करके उसे भरकर बैंक में जमा कर सकते हैं.

    तो दोस्तों, यह योजना उन लोगों के लिए बहुत ही लाभप्रद है जिनको एक प्यारी सी बिटिया है. अगर आप भी एक बिटिया के माता - पिता है तो तुरंत इस योजना का लाभ उठाइए. हमने सुकन्या समृद्धि योजना की पूरी जानकारी इस ब्लॉग में बताया है. अगर कोई कमी रह गयी हो तो कृपया कमेंट करके जरूर बताइए.



    YOU MAY ALSO LIKE

    No comments:

    Post a Comment

    ALL TIME HOT